Badminton
Share it

नई दिल्ली: पाकिस्तान (Pakistan) की महिला बैडमिंटन (Badminton) प्लेयर महूर शहजाद (Mahoor Shahzad) के लिए टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में हिस्सा लेना गर्व की बात है, लेकिन वो खेल से ज्यादा अपने बयान को लेकर चर्चा में हैं

पठान खिलाड़ियों पर किया कमेंट

महूर शहजाद (Mahoor Shahzad) ने एक वीडियो में कहा था कि जहां उन्हें कामयाबियों के लिए तारीफ मिली, वहीं कुछ साथी पठान प्लेयर्स उनसे जलते हैं. महूर को और पठानों पर इस कमेंट के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा. बयान पर बवाल मचने के बाद महूर ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिए माफी मांगी है.

महूर शहजाद ने क्या कहा था?

महूर शहजाद (Mahoor Shahzad) ने  टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) कहा था कि, ‘लोगों ने तारीफ भी काफी की लेकिन हां ये जो हमारे बैडमिंटन खिलाड़ी हैं, कुछ जो बिल्कुल पठान हैं, पाकिस्तान में मैं नंबर वन हूं और मैं ओलंपिक में खेली, तो हमारे जो बाकी पाकिस्तानी बैडमिंटन प्लेयर्स हैं, वो बहुत ज्यादा जलते हैं कि मैं इस मुकाम तक कैसे पहुंची. तो पाकिस्तान में ये काफी प्रॉब्लम है कि एक अच्छा, मतलब खुद भी नहीं करना और दूसरे को भी नहीं करने देना.’

महूर शहजाद ने मांगी माफी

महूर शहजाद (Mahoor Shahzad) ने कहा, ‘मैं ये माफी अपने पठान भाइयों के लिए मांग रही हूँ. मेरा इरादा किसी भी तरह से नस्लवादी कमेंट करने का नहीं था. कुछ पाकिस्तानी बैडमिंटन प्लेयर्स हैं, जो मेरे खिलाफ नेगेटिव कैंपेन चला रहे हैं, इसलिए मैंने अपने वीडियो में सिर्फ उनका जिक्र किया है.

‘सभी का सपोर्ट मिला’

‘मैं अपने पठान भाइयों और बहनों की भावनाओं को आहत करने लिए मैं दिल से खेद जताती हूं. आखिर में मैं कहना चाहूंगी कि पंजाबियों, सिंधियों, बलूच और पठान भाइयों, बहनों के प्यार और सपोर्ट के बिना इस लेवल पर किसी कॉम्पिटीशन में हिस्सा लेना जाहिर तौर पर नामुमकिन था. मैंने आज जो कुछ भी हासिल किया है और जहाँ मैं खड़ी हूँ, वो आप सभी के प्यार और सपोर्ट की वजह से है.’

मेरे पापा को जलील किया

महूर ने आगे कहा, ‘न सिर्फ़ मुझे, बल्कि पाकिस्तान बैडमिंटन फेडरेशन और मेरे पिता को जलील किया गया. उन्होंने बोला कि महूर शहज़ाद पाकिस्तान बैडमिंटन फेडरेशन की चहेती हैं, इसलिए पाकिस्तान बैडमिंटन फेडरेशन उसे सपोर्ट करता है. महूर शहजाद का बैडमिंटन में कोई लेवल नहीं है, वो ओलंपिक नहीं खेल सकतीं. महूर के पापा ने पाकिस्तान बैडमिंटन फ़ेडरेशन को पैसे दिए हैं.’

‘मेरा कसूर क्या था?’

महूर शहजाद (Mahoor Shahzad) ने कहा, ‘मैं 5 साल से पाकिस्तान की बैडमिंटन चैंपियन हूं और मैं लड़कियों को काफी अंतर से हराती हूं. उसके बावजूद मुझे इस आलोचना का सामना करना पड़ा. मुझे समझ नहीं आता कि आखिर मेरा कसूर क्या था.’

‘मुझे माफ कर दें’

(Badminton) प्लेयर महूर शहजाद (Mahoor Shahzad) बोलीं, “मैंने पठान समुदाय के बारे में नहीं कहा. और मैं आप सभी से माफी चाहती हूँ कि मेरी वजह से आप लोगों का दिल दुखा है. और मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोग मुझे सच्चे दिल से माफ कर देंगे.’

Leave a Reply

Your email address will not be published.